Connect with us

झुग्गियां हुईं महंगी, ब्राज़ील के ग़रीब खाली इमारतों में रहने को मजबूर

झुग्गियां हुईं महंगी, ब्राज़ील के ग़रीब खाली इमारतों में रहने को मजबूर

फ़वेला यानी झुग्गियों की क़ीमते बढ़ने के बाद अब ब्राज़ील के ग़रीब लोग छोड़ दी गईं पुरानी सरकारी इमारतों में रहने को मजबूर हैं. ब्राज़ील में सरकार ने आवासीय सुधारों के लिए अरबों डॉलर ख़र्च किए लेकिन रियो के गरीबों को इसका फ़ायदा मिलना अभी बाकी है. 2016 ओलंपिक खेल और 2014 फ़ुटबॉल विश्व कप की मेज़बानी करने वाले ब्राज़ील ने रियो के फ़ेवला में रहने वाले लोगों के जीवन में सुधार करने का वादा किया था. लेकिन सरकार के इन झुग्गी-बस्तियों में सुधार पर अरबों डॉलर करने का एक ऐसा नतीजा भी हुआ है जो किसी ने नहीं चाहा था.

read more at BBC.COM

0 0 0 0 0
Loading...


अन्य से जुडी ताज़ा खबरे

अक्षय कुमार की पहल से मुंबई में लगी पहली सेनेटरी पैड वेंडिंग मशीन

हाल ही में मुंबई के सेंट्रल एसटी बस डिपो पर सेनेटरी पैड वेंडिंग मशीन लगाईं गई है. अक्षय के ट्विटर पर गुरुवार को एक तस्वीर भी शेयर की है जिसमें वह शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे के साथ वेंडिंग मशीन का उद्धाटन करते हुए दिखाई दिए. हाल ही में आई अक्षय की फिल्म पैडमैन के जरिये महिलाओं के पीरियड्स और उससे जुड़े स्वच्छता के मुद्दे पर काफी चर्चा की जा रही है. इसी पहल के चलते मुंबई में ये कदम उठाया गया है और सभी राज्यों में जल्द ही इन मशीनों को लगाया जायेगा।
हाल ही में मुंबई के सेंट्रल एसटी बस डिपो पर…
Read More ...

रडार मशीन की मदद से रेलवे ढूढ़ेगा पटरियों के नीचे बने चूहे के बिल

रेलवे हादसों से परेशान रेलवे GPR (रेलवे ग्रांउड पेंट्रीएशन रडार)के जरिये पटरियों के नीचे बने चूहे,खरगोश के बिल को ढूंढ रहा है। इसके तहत यह मशीन 1 दिन में 160 km ट्रैक का सर्वे कर सकती है. सर्वे के दौरान ट्रैक पर गिटि्टयों को संतुलित करते हुए जमीन के नीचे सुरंगों और बिलों को स्कैन करती है.यह बिल बारिश के समय भर जाने के बाद खरनाक होते है जिससे रेल हादसों का भय बना रहता है। 1 मशीन की कीमत 29 करोड़ रूपए है और इस समय रेलवे के पास ऐसी 16 मशीन है।
रेलवे हादसों से परेशान रेलवे GPR (रेलवे ग्रांउड पेंट्रीएशन रडार)के…
Read More ...