Connect with us

ब्रिटेन आम चुनाव में पहली सिख महिला और पगड़ीधारी सिख ने जीत हासिल कर रचा इतिहास

ब्रिटेन आम चुनाव में पहली सिख महिला और पगड़ीधारी सिख ने जीत हासिल कर रचा इतिहास

लंदन: ब्रिटेन में आम चुनाव मे लेबर पार्टी को ज्यादा सीटें मिल रही हैं । इनमें भारतीय मूल के दो ब्रितानी उम्मीदवारों प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह ने जीत दर्ज की है। प्रीत पहली सिख महिला सांसद और तनमनजीत पहले पगड़ीधारी सांसद होंगे ।प्रीत ने बर्मिंघम एजबास्टन सीट 24,124 वोटों से जीती है तनमनजीत सिंह देसाई ने स्लोघ सीट 34,170 मतों से जीती है।

read more at Punjab Kesri

0 0 0 0 0
Loading...


व्यापार से जुडी ताज़ा खबरे

आम बजट 2018 :दूरसंचार क्षेत्र को नहीं मिला वित्तीय सहारा

दूरसंचार कंपनियों के प्रमुख संगठन COAI के महानिदेशक राजन मैथ्यूज ने आम बजट के प्रति निराशा जताते हुए कहा है कि भारी वित्तीय दबाव से गुजर रहे दूरसंचार क्षेत्र की जरुरी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया है. ज्ञात हो कि दूरसंचार एसोसिएशन केंद्र द्वारा लगने वाले शुल्कों व करों में कटौती की मांग कर रही थी. राजन मैथ्यूज ने दुःख पकट करते हुए कहा है कि लगातार बढ़ती हुयी प्रतिस्पर्धा को ध्यान में रखते हुए बताया कि इस क्षेत्र में तत्काल हस्तक्षेप की जरूरत है.
दूरसंचार कंपनियों के प्रमुख संगठन COAI के महानिदेशक राजन मैथ्यूज…
Read More ...

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज असम में दे रही है 80 हजार लोगों नौकरी का अवसर

रिलायंस इंडस्ट्रीज असम में खुदरा, पेट्रोलियम, दूरसंचार, पर्यटन एवं खेल जैसे क्षेत्रों में 2,500 करोड़ रुपये निवेश की योजना बना रही है. रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है कि इन परियोजनाओं से लगभग 80 हजार लोगों को नौकरी का अवसर मिलेगा. वैश्विक निवेशक शिखर सम्मेलन 2018 के कार्यक्रम में अंबानी ने कहा कि रिलयांस के लिए असम बड़ा बाजार है तथा कंपनी पर्यटन और वन्यजीव संरक्षण को बढ़ावा देने के लिये यहाँ केन्द्र स्थापित करेगी.
रिलायंस इंडस्ट्रीज असम में खुदरा, पेट्रोलियम, दूरसंचार, पर्यटन एवं खेल…
Read More ...

तेल की बढ़ती कीमतें मुसीबत बन सकती हैं मोदी सरकार के लिए

विपक्ष द्वारा पहले ही ईंधन की बढ़ती कीमतों को मुद्दा बनाये जाने के बाद मोदी सरकार के लिए मुसीबतें और बढ़ने वाली हैं. ब्लूमबर्ग इंटेलिजेंस के एक रिपोर्ट के अनुसार देश के इंपोर्ट बिल में लगभग पांचवां हिस्सा देने वाले पेट्रोलियम बाजार ने अब अपनी नीति बदल रहा है. वहीँ वैश्विक स्तर पर भी कच्चे तेल की कीमतें बढ़ रही हैं, ऐसे में अगर फिर पेट्रोलियम के दाम बढ़े तो मोदी सरकार को 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में जनता से बड़ी नाराजगी झेलनी पड़ सकती है.
विपक्ष द्वारा पहले ही ईंधन की बढ़ती कीमतों को मुद्दा…
Read More ...